हिन्दी विभाग में आपका स्वागत है

 

1948 में कॉलेज की स्थापना के साथ ही हिन्दी विभाग का आरंभ हुआ था। शुरुआत केवल दो अध्यापिकाऑ के साथ हुई थी। डाँ. कमला सांधी और श्रीमती शांति माथुर ने बहुत यत्न और लगन से विभाग की नीव रखी। विभागीय संस्था ‘भारती परिषद’, हिन्दी का नाट्य समिति तथा अध्यापिकाओं की अपनि संगोष्ठी का सूत्रपात उनके हाथो हो चुका था। बाद के वर्षो में विभाग के सदस्यों में प्रसिद्ध कथाकार श्रीमती मन्नू भंडारी और नाट्यालोचक रंगविशेषज्ञ डाँ. इंदुजा अवस्थी जैसे लोग शामिल हुए और अपनी मौजूदगी से उन्होंने विभाग की वातावरण को रचनात्मक तथा परंपराओं को सुदृढ बनाया। वर्तमान विभाग मे विविध रचनात्मकक्षमताओं और रुचियों से संपन्न बारह सदस्य हैं। अब यह लगभग संपूर्णतः एक प्रतिभाशाली युवा विभाग है। विभाग के परंपरओं से जुड़ते हुए ये सदस्य अपनी प्रतिभा और उत्साह के द्वार उन्हें न केवल संरक्षित और पोषित ही करेंगे बल्कि विकसित, संवर्धित और आवश्यकतानुसार परिवर्तित भी करने मे समर्थ होंगे।